NEWS


सरकार नहीं दे रही खिलाड़ियों को सुविधाएं - बिजेंद्र लोहान

अभय के चयन का विरोध करने वाले हरियाणा छोङकर जाऐं-गोदारा

बिजेन्द्र सिंह लोहान ने खिलाड़ियों को कोच और खेल सामग्री प्रदान करने की मांग की
खिलाङियों की अनदेखी कर रही सरकार


Former Athletes and Sports Promoters nation wide welcomed the nomination of Khel Ratna Shri Abhay Singh Chautala as Life President of IOA.

 



29th Dec 2016

PRESS RELEASE

 

I will first of all like to thank the IOA family for bestowing an honour to me by nominating me unanimously as Hon. Life President of IOA in accordance with past tradition.  This was not expected by me and I am grateful for this gesture.

 

I have served Indian Sports selflessly for more than 25 years and have made my humble contribution towards promotion of Indian Sports especially Boxing.  I am pleased that Haryana State where our Govt initiated many programes to encourage sportspersons is now in the forefront of Olympic movement in India.

 

We have very fond memories of Shri Vijender Singh becoming the first Bronze Medalist in Boxing in 2008 in Beijing Olympics when I was President of IABF.  I was also pleased that Mary Kom being a female athlete won Bronze Medal in 2012 London Olympics. Indian Boxers Brought Laurel by winning all 10 weight categories including 6 Gold Medals in CWG 2010, Indian Boxes constantly won back to back Medals in almost all of the major Multi –disciplinary Games and International Boxing Championships including Medals Won by Legendary Boxer Mary Kom, L Sarita Devi, Sarju Bala,Vijender Singh, Suranjoy Singh, Devendro, Manoj and all others during my tenure as IABF President.   

 

I have always served sports selflessly and will do everything for promotion of sportspersons and sports.   Although I was elected President unanimously of IOA in 2012, I decided to sacrifice this position in 2013 when vested interests from within India were able to influence an amendment to IOA Constitution.  On account of this amendment, I decided to relinquish the post of President IOA in the best interest of Indian Sports.

 

I am given to understand that in the AGM of Guwahati in 2015, where I was not present, IOA AGM had resolved that certain amendments which have only been made in India and are not applicable to other countries of the world, should be taken up by IOA with IOC.  The AGM in Chennai was informed that IOC was extremely busy with Olympics and, therefore, this matter could not be discussed for a period of 1 year.  I have noted that the AGM has now requested the President to take up this matter with IOC to have a complete understanding on whether people who have been chargesheeted under Indian Law, for political reasons not connected with sports, can be kept away from active management of sports or not.  The AGM has given 3 months time to the President to discuss this matter with IOC.

 

I am surprised at the reaction of the Minister of Sports Shri Vijay Goel and the media attention which was given to this ceremonial recognition of my humble contribution to sports and the sacrifice I have made in 2013 by resigning from the post of President, although I was elected President in accordance with IOA Constitution, Indian Constitution and in a most transparent manner in an election conducted by three eminent Judges.

 

Even my presence to witness the Rio Olympics has been questioned.  I am personally aware of the conduct of the Minister of Sports at Rio Olympics where IOC had questioned the behavior of the Minister and his Associates and threatened to withdraw his accreditation.  I do not wish to dwell more on this subject as I do not want to embarrass the Minister as well as the Sports Movement in India.  If necessary, I will brief the Hon’ble Prime Minister on this issue of Rio Olympics.

 

I, once again, wish to thank the IOA for nominating me to the ceremonial position of Lifetime President and I have already informed the President IOA, through a separate letter, that if IOC is not favourably inclined to my taking over as Hon. Life President after the President has had an opportunity of discussing this matter personally with IOC, in accordance with the IOA resolution passed in the AGMs of Guwahati & Chennai,, I will be pleased to sacrifice my position, once again, in the best interest of Indian Sports, Sportspersons, Good Governance, Transparency and Cleanliness in India Sports. 

 

 

 

(ABHAY SINGH CHAUTALA)




President HOA and leader of opposition Haryana Khel Ratna Shri Abhay Singh Chautala has been unanimously nominated as Life President of IOA in the AGM of IOA held at Chennai on 27th December, 2016. 
अभय चौटाला आईओए के लाइफ पे्रजिडेंट बने,

अभय चौटाला आईओए के लाइफ पे्रजिडेंट बने, हरियाणावासियों के लिए गर्व की बात 
चेन्नई में हुई इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन की आम सभा बैठक में सर्वसम्मति से लिया गया फैसला
देशभर के अनेक खेल संघों के पदाधिकारियों ने अभय चौटाला को दी बधाई
नेता प्रतिपक्ष ने तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता की समाधि पर जाकर दी उन्हें श्रद्धांजलि
चंडीगढ़, 27 दिसम्बर: इंडियन ओलंपिक संघ की मंगलवार को चेन्नई में हुई आम सभा बैठक में इनेलो के वरिष्ठ नेता एवं विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला को सर्वसम्मति से आजीवन अध्यक्ष (लाइफ प्रेजिडेंट) चुना गया। बैठक में इस आश्य का प्रस्ताव भारतीय ओलंपिक संघ के संयुक्त सचिव राकेश गुप्ता ने रखा जिसे सर्वसम्मति से पारित कर दिया गया। अभय सिंह चौटाला को उनके द्वारा खेलों को बढ़ावा देने में दिए गए योगदान के दृष्टिगत इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन का लाइफ प्रेजिडेंट मनोनीत किया गया है।
चौधरी अभय सिंह चौटाला वालीबॉल के राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय स्तर के खिलाड़ी रहे हैं और उन्होंने देश व प्रदेश में खेलों को बढ़ावा देने के लिए भारी योगदान दिया है। वे इससे पहले भारतीय ओलंपिक संघ के अध्यक्ष रहने के अलावा वरिष्ठ उपाध्यक्ष और उपाध्यक्ष पद पर भी रहे और भारतीय मुक्केबाजी महासंघ के अध्यक्ष रहने के अलावा वालीबॉल संघ के भी अध्यक्ष और भारतीय वालीबॉल महासंघ के उपाध्यक्ष रहे। अभय सिंह चौटाला लगातार 12 साल तक भारतीय मुक्केबाजी महासंघ के अध्यक्ष पद पर रहे और उनके अध्यक्ष रहते भारतीय मुक्केबाजों ने न सिर्फ दुनिया में भारत का नाम रौशन किया बल्कि एशियाई खेलों और विश्व मुकाबलों के साथ-साथ ओलंपिक खेलों में भी मुक्केबाजी में पदक हासिल कर नया कीर्तिमान स्थापित किया। पिछले तीन दशकों से अनेक खेल संघों से जुड़े रहे चौधरी अभय सिंह चौटाला इस समय हरियाणा ओलंपिक संघ के अध्यक्ष हैं। अभय सिंह चौटाला के भारतीय ओलंपिक संघ का आजीवन अध्यक्ष चुना जाना हरियाणावासियों के लिए विशेष रूप से बेहद गर्व का अवसर है। आज भारतीय ओलंपिक संघ की आम सभा बैठक में जैसे ही संघ के संयुक्त सचिव राकेश गुप्ता ने अभय चौटाला को लाइफ पे्रेजिडेंट मनोनीत किए जाने का प्रस्ताव रखा तो बैठक में मौजूद देशभर के सभी खेल संघों के प्रतिनिधियों ने इस प्रस्ताव का तालियों की गडग़ड़ाहट के साथ समर्थन किया और नेता प्रतिपक्ष को सर्वसम्मति से इंडियन ओलंपिक एसोसिएशन का लाइफ प्रेजिडेंट बना दिया गया। बैठक के बाद संघ के अध्यक्ष एन रामा चंद्रन, महासचिव राजीव मेहता, भारतीय कबड्डी महासंघ के अध्यक्ष जनार्दन सिंह गहलोत, एशियन टेनिस फैडरेशन के अध्यक्ष अनिल खन्ना, गोआ के पूर्व मुख्यमंत्री वी कामथ, भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के अध्यक्ष व हिमाचल प्रदेश ओलंपिक संघ के अध्यक्ष अनुराग ठाकुर, पूर्व केंद्रीय मंत्री बीपी वैश्य, दिल्ली के पूर्व मुख्य सचिव एस रघुनाथन व तीरअंदाजी महासंघ के अध्यक्ष व पूर्व सांसद तरलोचन सिंह सहित सभी प्रमुख खेल संघों के पदाधिकारियों ने उन्हें बधाई दी। बैठक में ओलंपिक पदक विजेता पीवी सिंधू भी मौजूद थीं जिन्होंने अभय चौटाला को आजीवन अध्यक्ष बनने पर बधाई दी। बैठक में ओलंपिक पदक विजेता पीवी सिंधू व साक्षी मलिक को सम्मानित भी किया गया। पीवी सिंधू ने जहां बैठक में मौजूद रहकर खुद सम्मान-पत्र हासिल किया वहीं साक्षी मलिक की ओर से उनकी माता ने सम्मान-पत्र हासिल किया। बैठक में अभय सिंह चौटाला ने देशभर के सभी खेल संघों द्वारा उन्हें दिए गए सम्मान और उनमें जताए गए विश्वास के लिए आभार जताते हुए कहा कि देश में खेलों और खिलाडिय़ों को प्रोत्साहन देने में वे कोई कोर कसर नहीं छोड़ेंगे। 
स्व. जयललिता को श्रद्धांजलि अर्पित की: बैठक के बाद नेता प्रतिपक्ष चौधरी अभय सिंह चौटाला तमिलनाडु की पूर्व मुख्यमंत्री स्व. जयललिता की समाधि पर गए और उन्होंने हरियाणा की जनता व इनेलो की ओर से स्व. मुख्यमंत्री पुष्प अर्पित कर श्रद्धांजलि अर्पित की। चौधरी अभय सिंह चौटाला ने कहा कि अन्नाद्रमुक नेता के साथ चौधरी देवीलाल व चौधरी ओमप्रकाश चौटाला के समय से ही बेहद करीबी और घनिष्ठ संबंध रहे हैं। तमिलनाडु के विकास और गरीबों के उत्थान में स्व. जयललिता की बेहद अहम भूमिका रही और वे देश के प्रमुख विपक्षी नेताओं में से एक रही हैं। इनेलो नेता ने कहा कि स्व. जयललिता ने गरीब लोगों को दो वक्त भोजन उपलब्ध कराने के लिए ‘अम्मा रसोई’ व उन्हें चिकित्सा सुविधा उपलब्ध करवाने के लिए ‘अम्मा डिस्पेंसरी’ शुरू करके न सिर्फ लोगों की सेवा की बल्कि पूरे देशवासियों के सामने एक मिसाल कायम की कि कैसे गरीबों के भले के लिए काम किया जा सकता है।

 गिरी गाज

छह महीने के लिए एडहॉक कमेटी का गठन

मुख्य संवाददाता, यमुनानगर : हरियाणा ओलंपिक एसोसिएशन (एचओए) ने भारोत्ताेलन को प्रोत्साहन देने में विफल रहने पर हरियाणा वेटलिफ्टिंग एसोसिएशन (एचडब्लूएलए) को तुरंत प्रभाव से निलंबित कर दिया है। इसके चुनाव छह महीने के भीतर कराए जाएंगे। तब तक के लिए रणधीर सिंह की अध्यक्षता में पांच सदस्यीय कमेटी गठित की गई है जो एसोसिएशन के कामकाज देखेगी। जिले के सतपाल सिंह रोजी को कमेटी का संयोजक बनाया गया है।

जिमखाना क्लब में बुधवार को पत्रकार वार्ता में कमेटी के चेयरमैन रणधीर सिंह ने बताया कि एचडब्लूएलए प्रदेश में भारोत्ताेलन को प्रमोट करने में विफल रही है। गत वर्ष हुई राष्ट्रीय भारोत्ताेलन प्रतियोगिता में प्रदेश के तीन खिलाड़ी डोपिंग में पकड़े गए थे। इस कारण एक वर्ष से अधिक समय से प्रदेश की टीम राष्ट्रीय प्रतियोगिता में भाग नहीं ले पाई है। रणधीर सिंह ने कहा कि एचडब्लूएलए हरियाणा ओलंपिक एसोसिएशन व आइओए को इस संबंध में किए पत्र व्यवहार का जवाब नहीं दे रही थी। इस कारण उसे निलंबित किया गया है। नई एसोसिएशन के चुनाव होने तक एसो. की गतिविधियां संचालित करने के लिए गत 17 अक्टूबर को एडहॉक कमेटी गठित की गई है। इसमें उनके अलावा सतपाल सिंह रोजी को कन्वीनर जबकि नरेंद्र मोर, विपिन पटर व भूपेंद्र सिंह को सदस्य बनाया गया है। बुधवार को हुई मीटिंग में प्रदेश वेटलिफ्टिंग टीम जूनियर और सब जूनियर (लड़के व लड़कियां) टीम चुनने के लिए ट्रायल आयोजित करने का फैसला लिया गया। ट्रायल 4 नवंबर को गुरु नानक खालसा कॉलेज में होंगे। इसके बाद ही हरियाणा वेट लिफ्टिंग चैंपियनशिप होगी, जिसकी तिथि की घोषणा ट्रायल्स के बाद की जाएगी। इसमें विजेता खिलाड़ी 12-17 दिसंबर को दिल्ली में होने वाली राष्ट्रीय प्रतियोगिता में भाग लेंगे।

नीति के तहत लिया निर्णय : सहदेव

आल इंडिया वेट लिफ्टिंग एसोसिएशन के महासचिव सहदेव यादव ने मोबाइल फोन पर दैनिक जागरण को बताया कि एचडब्लूएलए को निलंबित करने का फैसला एसोसिएशन की नीति के तहत लिया गया है। दो या अधिक खिलाड़ी डोपिंग में पकड़े जाने पर संबंधित एसोसिएशन को निलंबित कर दिया जाता है। 

NEWS 

Churning in Chautala faction of HOA, Abhay 'rests'

Ajay Sura, TNN Jul 15, 2012, 06.59PM IST


CHANDIGARH: In a dramatic move, the Haryana Olympic Association (Chautala faction) has appointed Sher Singh Barshami as the president of HOA removing Abhay Singh Chautala.

Former Haryana DGP, MS Malik, who was general secretary of the association, has also been removed and HS Bhadu of Panchkula has been appointed in his place
.

The development took place on Wednesday at Gurgaon, where the faction had called a meeting attended by around 250 members of Chautala led faction. The elections were held under the supervision of joint secretary of the Indian Olympic Association, Rana Gurmit Sodhi who had performed the role of observer.

Importantly, the faction had kept the meeting secret and did not release the information of elections even to the media.

When asked about the reasons of replacing Abhay Chautala from the association, new president, Sher Singh Barshami told TOI that changes has been made on the wishes of Abhay Singh. On a question about the keeping the entire issue secret, Sher Singh stated that very soon they would be holding a press conference at Chandigarh to introduce the new team and their further line of action.

The new president, Barshami is a senior leader of Indian National Lokdal (INLD) and an MLA from Ladwa constituency in Kurukshetra district, while HS Bhadu is a close to Chautala family. Another prominent leaders of INLD who has been appointed in the executive body of the association as vice president are former Haryana deputy speaker, Gopi Chand Gahlot, former agriculture minister, Jaswinder Singh Sandhu, former MP Surender Singh Barwala.

Development is significant as Abhay Singh Chautala who is an MLA and son of former Haryana chief minister Om Prakash Chautala was occupying the presidential post of HOA for a long time. However, when the new faction led by Kurukshetra MP and industrialist, Naveen Jindal taken over the association in 2006 after Bhupender Singh Hooda government came into power, the issue reached to the court.

Later, former DGP (CID) Haryana, PV Rathi had replaced Naveen Jindal and is running the affairs of other faction. Chautala faction has been recognized by the Indian Olympic Association, while Rathi faction has already procured an order from local court Panchkula restraining Abhay Chautala faction not to use the name of HOA.

The matter is also pending before the Disputes and Affiliation Commission of Indian Olympic Association.


Gross irregularities in posts to sportspersons, stadiums: INLD

Chandigarh, July 19, 2012 Alleging gross irregularities in setting up of stadiums in the state, the newly elected president of Haryana Olympic Association (HOA) and Indian National Lok Dal (INLD) leader, Sher Singh Barshami, on Thursday accused the ruling Congress government of promoting "nepotism and regionalism" in Sports.  









Briefing local news persons here, Barshami said that it was shocking to see how the Haryana government had been ignoring better sportspersons and doling out better jobs and cash rewards to less talented sportspersons.

He said several sportspersons -including Dinesh Kumar, Jai Bhagwan, Kavita Chahal, Kavita Goel, Seema Antil, Priyanka, Kavita Siwach and Promila- were not given rewards or jobs according to their talent. Barshami, who was accompanied by state INLD president Ashok Arora, said Hooda had made false claims about 180 stadiums in Haryana.Claiming to have surveyed all the stadiums, Barshami and Arora said that there were at least 80 stadiums which neither had staff nor coaches.