PRESIDENT

HARYANA OLYMPIC ASSOCIATION 

KHEL RATNA SHRI ABHAY SINGH CHAUTALA, MLA


Profile 

Inspired by his political lineage, Shri Abhay Singh Chautala has been closely associated with politics since he was a student. But it was only after completing his bachelor’s degree that he decided to move into active politics. Young Chautala began his career by contesting the election for the membership of his village Panchayat and severed as the Upsarpanch of Chautala village Panchayat for one term. After getting a firm grip over the village political structure and making his presence felt, through groundbreaking results in the development of the rural base of Haryana Village Panchayat, he steadily started his ascent towards the state assembly. He went on to contest the election from Rori Assembly Constituency held in the year 2000 and won the seat with a record number of votes. In 2005 he was elected as the President of the Zila Parishad in Sirsa District. In 2009 he won the by-election from Ellanabad Constituency for Haryana state Assembly. As a member of Haryana Legislative Assembly he has served the people of his constituency with complete loyalty and fairness and has addressed the needs pertaining to the development of the state. His Grandfather Late Ch. Devi Lal was a famous Personality in India a freedom fighter who served the State of Haryana and Nation as Chief Minister two times and Deputy Prime Minister of India. His father Ch. Omprakash Chautala has become Chief Minister of Haryana Six times and presently is the Leader of Opposition in Haryana Legislative Assembly. His two uncles Ch. Ranjit Singh and Ch. Pratap Singh were also elected as MLAs several times. Elder brother Dr. Ajay Singh Chautala served as Member Parliament in both houses Lok Sabha and Rajya Sabha presently is the Member of Haryana Legislative Assembly.  His Late grandfather was the first leader who ensured the Govt. Service for Distinguished Sports Persons in various Sports Departments. 

As a sportsman and sports promoter

Mr. Chautala has also been an avid sportsman and represented the state team eight times in the National Volley Ball championships, a tournament that saw the Haryana state team triumph a number of times. Sport is a passion he holds very close to his heart; his keen interests in affairs of the state have only complemented the drive to work for the promotion of sports. In spite of being actively involved in politics and occupying elective office in the Haryana Legislative Assembly he has consistently worked towards enhancing the sporting culture in our country. As a MLA, he incessantly pushed for policies to promote sports in the rural areas in general and among girls of Haryana in particular. As a result of this persistent effort, the then State Government adopted new sports policies aimed at popularizing sports and games, opening of rural stadiums in various parts of the State, increased diet allowance and reserved percentage of seats in government educational institutions and other jobs for sportspersons. His contributions at the grass root level of the sport in Haryana are unparalleled and have acted as a catalyst in the progression of State athletes in the country. His ambition to see our country being counted amongst strong sporting nations drove him to adopt the role of a sports administrator. In recognition to his services for the cause of sports and sportspersons, he was elected president of Haryana Olympic Association and the Vice-President of the Indian Olympic Association.

 As a Boxing Administrator

His unprecedented work as an administrator for boxing has witnessed Indian pugilist take the sport to new heights. One moment that changed the face of Indian boxing forever was Vijender Singh's bronze medal winning performance at the 2008 Beijing Olympic Games. MC Mary Kom's bronze at the 2012 London Olympics earlier this year has only added to the growing repute of the sport. Vijender’s Olympic medal was certainly the turning point in the boxing history of India, but the meteoric rise in the popularity of the sport cannot just be accorded to that one instance. There was tremendous amount of work put in, foundations of which were laid down as early as 2000, by the faction of the sport’s administrators in boxing led by Shri Abhay Singh Chautala. A series of long term development plans were put into place that slowly but steadily started to yield results and finally 9 boxers qualified for London Olympics and performed very well. Not only in Olympics but in World Championships and in other Continental Championships and Games Indian Boxing Squad performed extremely very well and shown their positive presence. It was under his able leadership the sport started getting corporate support and boxers got the opportunity to participate in added international exposure tours. Another part of the development plans was to enhance the level of competition by hosting international events that would draw renowned global talent and increasing the number of domestic competitions. Major breakthroughs were made through increased employment and incentives for international medal winners and also in Women’s discipline of the sport in the country. With the advent of Senior Women’s National Boxing Championships, a tournament that saw the emergence of a new star that would one day win accolades at highest levels, the sport acquired new dimensions. Mr. Chautala’s honest contributions for the sport of boxing have been noteworthy and commendable. A man of his words, he is relentlessly dedicated to give Indian Olympic sports a much deserved facelift and a future that provides ample opportunities for Indian sportsperson to excel and flourish in.

Key sporting initiative at State level


o   State agencies, like HSIDC, State Forest Dept, Haryana Police and State Electricity board etc were encouraged to adopt, develop and nurse dedicated sporting talent in their training curriculum.

o   New guidelines were incorporated promising handsome incentives and cash prizes to the sports persons winning medals in the Olympics, Asian Games, and Commonwealth Games.

o   Sportspersons with podium finishes at the Olympics were guaranteed cash incentives to the tune of 1 corer rupees for a gold medal, 50 lacs for silver and 25 lacs for a bronze, a first of its kind initiative undertaken by the State Government because of the constant efforts of Shri Chautala. (It was first time when Olympic Medalists Cash Incentive in India from any Govt.) 

o   Established sports nurseries at the rural regions of the state to scout and develop talent in various Olympic sports

o   Generated District Rural Games Associations under the patronage of the Haryana Olympic Association

o   Started Haryana State Rural Games

o   Special considerations were provided to District teams for participation in state championships

o   With his sincere efforts Haryana Olympic Association established its Own Olympic Bhawan with Olympic Club facilities at Panchkula, near Chandigarh. (The Haryana Olympic Bhawan was first Building established by an Olympic Member)

o   He taken the initiative to establish Sports Stadiums in various regions and villages in Haryana.

o   With his commendable efforts Sports Authority of India established a Regional Training Center for Sports in Sonipat Haryana.

o   Resulting of his Continuous efforts at various stages in Haryana, the players got boosted and in the National Games of India Haryana inclined from 17th to 3rd Place in over all medal tally.

o   He ensures that every year Haryana State Games should takes place in the State.

o   He started Haryana Women Games and Haryana State Rural Games.

o   Because of his support and efforts in Beijing Games 9 Players out of 51 were from Haryana State.

o   In the London Olympic Games to number was more than that from Haryana. Specially in the games of Wrestling, Boxing, Athletics and Shooting most of the Players were from Haryana State.

       Objectives as a ‘Sports Administrator’

o   To work towards increasing the level of participation at the grassroots level of Indian sports.

o   To encourage and support the promotion of women in Olympic sports at all levels

o    To encourage and support the promotion of ethics and fair play in sport

o   To encourage corporate support for Olympic sports in the country

o   Provide ideal opportunities comprising a competent support system and infrastructure base for Indian athletes to enhance performance levels

o   Administer more employment opportunities for athletes in Olympic sports in India.

 Offices and Assignments held


o   Life President Indian Olympic Association -27 December, 2016

o   President, Haryana Olympic Association 23 October, 2016- till date

o   President, Indian Olympic Association, 5 December, 2012 to 9 February, 2014

o    Chairman, Indian Amateur Boxing Federation from, September 2012 - till date

o   President, Indian Boxing Federation o, 2001 - 2012

o   Chef-de-mission, Indian contingent, Guangzhou Asian Games 2010

o   Vice President, Indian Olympic Association, 1991 - till date

o   Vice President, Asian Boxing Confederation, 2004 - 2011

o   Member, Commonwealth Games Organizing Committee Delhi 2010

o   President, Haryana Olympic Association, 1991 - 1995, 1999-2012

o   President, Haryana State Boxing Association, 2000 - till date

o   Secretary General, Haryana State Volleyball – Association-1985-1991

o   President, Haryana State Volley Ball Association-1991-2000

o   President, Haryana State Athletics Association, 1996 - 2008

o   Life President, Haryana State Athletic Association.-Since 2008

o   Patron In Chief, Haryana State Karate Association-Since-2006

o   Patron In Chief, All India Tug of War Federation- Since-2008

o   Patron In Chief, Mixed Martial Arts India-Since-2010

o   Chairman, Zila Parishad twice from Sirsa

o   Chairman, Gramothan Vidyapeeth, Sangria, 1992 - till date

o   Trustee, Swami Keshva Nand Charitable Trust, Sangaria

o   Chairman, Jannayak Chaudhary Devi Lal Trust

 Social Activities


o   Have works towards the implementation of various programs & policies framed under the dynamic leadership of Ch. Devi Lal & Ch. Om Prakash Chautala.

o   Active participant in promotion of Social, Educational & Religious Institutions & Organizations.

o   Organizing and inspiring youth towards constructive activities, through workshops, health clinics and through motivational rallies.

o   Work towards the development in the field of Agriculture, Industries and Environment & Education.

o   Able administrator in organizing sports activities, tournaments and championships.

o   Keen activist in rural development

 Education


o     CCS Haryana Agricultural University , (Bachelor of Arts)

o   S.M. Hindu High School, AISSCE (10+2)

Other Interests


o    Travelling to religious and sacred places

o    Learning about various cultures through travel various exposures 

o    Watching social films and documentaries

o    Gaining agricultural knowledge

o    Listening to folk music

o    Engaging in rural games 

A write up in Martial Arts Book 

खेल क्रांति द्रष्टा श्री अभय सिंह चौटाला!

अपने राजनीतिक वंश से प्रेरित होकर, श्री अभय सिंह चौटाला छात्र जीवन से ही बारीकी से राजनीति जुड़े रहे थे! उन्होंने अपनी स्नातक की डिग्री है पूर्ण करते ही सक्रिय राजनीति में स्थापित होने का फैसला कर लिया था! युवा चौटाला ने अपने गांव पंचायत की सदस्यता के लिए चुनाव लड़ने से अपना कैरियर शुरू किया और एक अवधि के लिए चौटाला की गांव पंचायत के उपसरपंच रहे। गांव पंचायत की राजनीतिक संरचना पर एक अच्छी पकड़ और समझ रही है, हरियाणा ग्राम पंचायत के विकास में आधारभूत परिणामों के माध्यम से ग्राम पंचायत की सेवा करने के बाद, वह तेजी से राज्य विधानसभा की ओर अपने बढे! श्री चौटाला ने वर्ष 2000 में रोड़ी विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ा और मतों के रिकॉर्ड संख्या के साथ जीत दर्ज की! 2005 में उन्होंने सिरसा जिले में जिला परिषद के अध्यक्ष के रूप में निर्वाचित किया गया था। 2009 में उन्होंने हरियाणा राज्य विधानसभा के लिए ऐलनाबाद क्षेत्र से उपचुनाव जीत लिया। हरियाणा विधान सभा के एक सदस्य के रूप में वह पूरी निष्ठा और निष्पक्षता के साथ अपने निर्वाचन क्षेत्र के लोगों की सेवा की है और राज्य के विकास से संबंधित जरूरतों को संबोधित किया। उनके दादा स्वर्गीय चौधरी देवीलाल एक स्वतंत्रता सेनानी थे, जो देश में बहुत ही लोकप्रिय किसान और कमेरे  वर्ग के हिमायती और निष्पक्ष नेता के रूप में जाने जाते हैं, वे जननायक थे, चौ देवीलाल, दो बार हरियाणा प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे और भारत के उप प्रधानमंत्री के रूप में हरियाणा राज्य और देश की सेवा में एक प्रसिद्ध व्यक्तित्व थे। उनके पिता चौधरी ओमप्रकाश चौटाला हरियाणा विधान सभा में हरियाणा के छह बार के मुख्यमंत्री और विपक्ष के नेता रहे हैं! जिन्हें प्रदेश की राजनीती में लौहपुरुष के रूप में जाना जाता है! उनके दो चाचा चौधरी रणजीत सिंह और चौधरी प्रताप सिंह भी विधायक रहेबड़े भाई डॉ अजय सिंह चौटाला ने हरियाणा विधानसभा के अलावा भारत  संसद के दोनों सदनों लोकसभा और राज्यसभा में सांसद के रूप में कार्य किया। उनके भतीजे श्री दुष्यंत सिंह चौटाला जो हिसार लोकसभा से सांसद हैसबसे कम उम्र के है और लोकसभा सदस्य होने का गौरव प्राप्त है और सबसे संसद के सबसे सक्रिय सदस्य माना जाता है!

जननायक चौधरी देवीलाल जी जहा खेलों के उथान के लिए नींव रखने वाले हरियाणा प्रदेश में खेल क्रांति के जनक जाने जाते हैं, वहीँ चौधरी ओमप्रकाश चौटाला जी सदैव खेल प्रतिभाओं के संरक्षक और पोषक रहे हैं! खेलों में विशिष्ठ उपलब्धि हासिल करने वाले खिलाडियों के लिए सरकार के विभिन्न विभागों में नौकरी सुनिश्चित करने का पुनीत कार्य सर्व प्रथम चौ. देवीलाल द्वारा ही किया गया थाश्री ओमप्रकाश चौटाला भारतीय राजनीतिक इतिहास के प्रथम मुख्यमंत्री हैं जिन्होंने क्रिकेट और व्यवसाइक खेलों के अलावा गैर पेशेवर  खेलों और खिलाडियों के लिए मुख्य रूप से पैसे देने का कार्य किया!   मुख्यमंत्री रहते हुए श्री ओमप्रकाश चौटाला ने 2000 के सिडनी ओलंपिक खेलों में स्वर्ण पदक जितने वाले प्रदेश के खिलाडी को एक करोड़ रुपये का नकद पुरुस्कार देने की घोषणा की थी, रजत पदक के लिए 50 लाख कांस्य पदक विजेता के लिए 25 लाख का नकद पुरुस्कार देने की घोषणा की थी! हरियाणा प्रदेश की बहु श्रीमती कर्णम मल्लेश्वरी ने सिडनी ऒलीम्पिक्स में भारोत्तोलन में कांस्य पदक जीतकर देश और प्रदेश का नाम रौशन किया था, तथा उन्हें सरकार की और से 25 लाख रुपये यमुनानगर में एक प्लाट दिया गया था! बाद में इस  योजना को हरियाणा की खेल नीति में शामिल किया गया था।

श्री अजय सिंह चौटाला ने 12 से अधिक वर्षों तक भारतीय टेबल टेनिस महासंघ की अध्यक्ष के नाते सेवा की। उनके कार्यकाल में भारतीय टेबल टेनिस खूब निखरा। वे राष्ट्रमंडल टेबल टेनिस महासंघ के अध्यक्ष भी रहे। सांसद श्री दुष्यंत सिंह चौटाला हाल ही में भारतीय टेबल टेनिस महासंघ के अध्यक्ष के रूप में सर्वसम्मति से चुने गए है। वे टीटीएफआई के अभी तक के सबसे कम उम्र के अध्यक्ष है।

 खिलाड़ी और खेल प्रमोटर

श्री अभय सिंह चौटाला खेलों के शौकीन खिलाड़ी रहे हैं और राष्ट्रीय वॉली बॉल चैंपियनशिप में अनेको बार हरियाणा प्रदेश का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं जिसमे प्रदेश की टीम अनेकों बार चैंपियनशिप विजेता भी रही। खेल उनके लिए एक जुनून रहा और हमेशा ही उनके दिल के करीब रहा है; उन्हें खेल और खिलाडियों के  संरक्षक के तौर पर देखा जाता है! सक्रिय रूप से राजनीति में शामिल होने और हरियाणा विधान सभा में व्यस्त होने के बावजूद वह लगातार हमारे देश में खेल संस्कृति को बढ़ाने की दिशा में काम करते रहे हैं। एक विधायक और सक्रिय राजनेता होने के नाते, वह लगातार ग्रामीण क्षेत्रों में खेलों को बढ़ावा देने के लिए विशेष रूप से प्रयासरत रहे हैं। यह उनके सतत लगातार प्रयासों का परिणाम है की आज राज्य के विभिन्न हिस्सों में ग्रामीण स्टेडियम उपलब्ध हैं, खेलों को लोकप्रिय बनाने के उद्देश्य से नई स्पोर्ट्स नीति बनी, जिसमे बढा आहार भत्ता और सरकारी शिक्षण संस्थानों में सीटों और अन्य नौकरियों के लिए खिलाडियों के लिए सीट आरक्षित की गईहरियाणा में खेल के जमीनी स्तर पर उनके योगदान अदित्य है, उन्होंने सदैव देश और प्रदेश में खिलाडियों की प्रगति में एक उत्प्रेरक के रूप में कार्य किया है। देश को दुनिया में खेलों के सरताज के रूप में देखने की उनकी महत्वकांशी दूरदर्शिता ने उन्हें एक खेल प्रशासक की भूमिका के लिए प्रेरित किया! उन्होंने अपनी खेल प्रशासक के तौर पर यात्रा हरियाणा राज्य वॉलीबॉल संघ के सचिव से प्रारम्भ की थीआगे चलकर खेल और खिलाड़ियों के उज्जवल भविष्य के लिए किये उनके प्रयासों को मान्यता देते हुए उन्हें हरियाणा ओलंपिक संघ का अध्यक्ष चुना गया! वे भारतीय ओलंपिक संघ के उपाध्यक्ष के चुने गए थे। उन्हें भारत सरकार ने भारतीय स्पोर्ट्स कॉउंसिल का उपाध्यक्ष भी मनोनीत किया! सन 2012 में श्री अभय चौटाला को सर्वसम्मति से भारतीय ओलंपिक एसोसिएशन के अध्यक्ष के रूप में निर्वाचित किया गया है। उन्होंने वर्ष 2010 में चीन में आयोजित एशियाई खेलों में भारतीय दल का चेफ डी मिशन के तौर पर प्रतिनिधित्व किया, जहाँ भारतीय टीम का एशियाई खेलों में अब तक का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन रहा।

मुक्केबाजी प्रशासक

मुक्केबाजी के लिए एक प्रशासक के रूप में उनका अभूतपूर्व योगदान रहा है! उनके अध्यक्ष रहते भारत ने केवल अंतराष्ट्रीय पटेल पर स्वर्णिम ऊंचाइयों को छुआ बल्कि अनेक बार अन्तराष्ट्रीय मुक्केबाज़ी प्रतियोगिताओं का सफल आयोजन करवाया जिनमे वर्ल्ड चैंपियनशिप और एशियाई चैंपियनशिप भी शामिल हैं! भारतीय मुक्केबाजी का चेहरा हमेशा के लिए बदल देने वाला वह पल, जब बॉक्सर विजेंदर सिंह ने 2008 बीजिंग ओलिंपिक गेम्स में कांस्य पदक जीता कैसे भुलाया जा सकता है! उसके बाद 2012 लन्दन ओलिंपिक खेलों में बॉक्सर मैरीकॉम ने जो इतिहास रचा वो चिरस्मरणीय है! विजेंदर का ओलंपिक पदक निश्चित रूप से भारत की मुक्केबाजी के इतिहास में एक नया मोड़ था, लेकिन इस खेल की लोकप्रियता में जबरदस्त वृद्धि सिर्फ इतने तक सिमित नहीं हो सकती। जिस तरह से सन 2000 में श्री अभय सिंह चौटाला के नेतृत्व में भारतीय बॉक्सिंग के नवजीवन की नींव आधारभूत ढंग से राखी गई और धरातल पर लंबी अवधि की  विकास योजनाओं की एक श्रृंखला धीरे धीरे लेकिन लगातार परिणाम उपज के लिए शुरू की गई उसके परिणाम स्वरुप भारत के 9 मुक्केबाज लंदन ओलंपिक के लिए क्वालीफाई हुए। यह उनके कुशल नेतृत्व के का ही नतीजा था की भारतीय मुक्केबाजों ने केवल ओलिंपिक, एशियाई या कामनवेल्थ खेलों में बल्कि विश्व मुक्केबाज़ी प्रतियोगिताओं अन्य अन्तराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में  केवल अच्छा प्रदर्शन ही नहीं किया बल्कि एक सशक्त उपस्थिति दर्ज करवाई!

विकास योजनाओं का दूसरा चरण अंतरराष्ट्रीय पटल से प्रसिद्ध वैश्विक प्रतिभा आकर्षित करने का रहा जिसमे अन्तराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं का भारत में अधिक से अधिक आयोजन और भारतीय खिलाडियों को विदेश में होने वाली प्रतियोगिताओं में शामिल होकर तजुर्बा हासिल करने के अधिक मौके उपलब्ध करना रहाघरेलू प्रतियोगिताओं की संख्या में वृद्धि प्रतियोगिता के स्तर को बढ़ाने की मंशा से की गई ताकि नई प्रतिभाओं को उभरने और निखरने का मौका मिल सके! श्री अभय सिंह चौटाला की दूरदर्शी सोच और खेलों के प्रति उनके समर्पण और स्नेह का नतीजा यह रहा की खिलाडियों को बड़ी सफलताएं मिली और रोजगार के मौको में वृद्धि हुई! महिला खिलाडियों के प्रोत्साहन के लिए अलग से योजनाएं चलाई गई परिणामतः भारतीय महिला मुक्केबाज़ी को नई पहचान मिली। सीनियर महिला राष्ट्रीय मुक्केबाजी चैंपियनशिप के आगमन के साथ ही भारत ने महिला मुक्केबाज़ी की एक से एक सितारा खिलाडियों को पाया जिन्होंने विश्व मुक्केबाज़ी में उच्चतम स्तर प्राप्त किया! उनके नेतृत्व में भारतीय मुक्केबाज़ी एशिया में पहले स्थान और विश्व में छठे स्थान पर पहुंची! अनेक भारतीय मुक्केबाज़ विश्व रैंकिंग में प्रथम स्थान तक पहुंचे! उनके कार्यकाल में भारत के अभी तक के अधिकतम अधिकारी अंतराष्ट्रीय मुक्केबाज़ी संघ एशियाई मुक्केबाज़ी परीसंघ में विभिन्न पदों पर पहुचे!

मुझे उनके साथ कार्य करने का सुअवसर प्राप्त हुआ और उनको नज़दीकी से जानने का मौका मिला! अनेक ऐसे मौके आये जब उनके भीतर छुपे खिलाडी और खेल प्रेमी को मैंने नज़दीक से उभरकर बहार आते देखा है! उनकी साफगोई, ईमानदार प्रयास और समर्पण उनको अपना मित्र बनाने पर बाध्य करते है! मैंने उनको कभी भी खेल और खिलाडियों में भेदभाव करते नहीं देखा उल्टा वो ऐसा करने वाले व्यक्ति को बिलकुल पसंद नहीं करते! जब भी कभी मौका आया उन्होंने खिलाडियों को सर्वोपरि ही रखा! 2007 के 33वें  राष्ट्रीय खेलों में तत्कालीन कांग्रेस सांसद ने श्री नवीन जिंदल ने श्री अभय सिंह चौटाला जी से खेलों में भाग लेने  के लिए अनुमति मांगी थी, श्री चौटाला जी ने बिना एक  क्षण लगाए ये कह कर तुरंत उन्हें खेलने का मौका दिया था की नवीन एक प्रतिभाशाली खिलाडी हैं और हरियाणा प्रदेश के लिए पदक जीत सकते हैं! मुझे याद है जब भारतीय ओलिंपिक संघ के अध्यक्ष के तौर पर उन्होंने पहली बार भारतीय ओलिंपिक भवन में  कदम रखा था तो सबसे पहले उन्होंने भारतीय खेल सितारों की तस्वीरें ओलिंपिक भवन में स्थापित करवाने को कहा था! उन्होंने मुझे हिदायत दी थी कि देश के सभी ओल्यम्पियन्स, ओलिंपिक पदक विजेता, एशियाई पदक विजेता, अर्जुन अवार्ड विजेता और राजीव गाँधी खेल रत्न अवार्ड विजिता खिलाडियों को पत्र लिख कर उनसे उनकी तस्वीर मंगवाई जाये और ओलिंपिक भवन में एक गैलरी बना कर स्थापित करवाई जाए! जब उनसे उनकी तस्वीर लगाने की बात कही गई तो श्री चौटाला ने बड़े अदब से कहा था की अगर लगनी ही है तो भारत में ओलिंपिक मूवमेंट के जनक स्वर्गीय श्री J R D टाटा की तस्वीर लगाओ!

भारतीय खेलों के लिए और विशेषकर मुक्केबाजी खेल के लिए श्री चौटाला का ईमानदार योगदान उल्लेखनीय और सराहनीय रहा है। उन्हें बात का धनी और खेल और खिलाडियों का सच्चा हितैषी माना जाता है! वह लगातार भारतीय ओलंपिक खेलों के उजवल भविष्य और भारतीय खिलाडियों के लिए पर्याप्त उत्कृष्ट अवसर प्रदान करवाने के लिए समर्पित रहते है। सही और सच्चे शब्दों में श्री अभय सिंह चौटाला केवल खेल रत्न हैं बल्कि हरियाणा प्रदेश और देश में खेल क्रांति के ध्वजवाहक हैं!

I appreciate the efforts put in by Abhay  Chuatala ji to uplift Indian Boxing during 2008 when I won first Olympic Medal in Boxing for our Country- Boxer Vijender Singh

श्री अभय सिंह चौटाला जी के खेलो के उथान के लिए किये गए प्रयासों की जितनी सराहना की जाए उतनी कम है! मैंने बचपन से ही हरियाणा और देश भर में उनके उत्कृट योगदान से बॉक्सिंग और अन्य खेलों को उनकी अगुवाई में उठते हुए देखा है और साथियों से सुना है! उनके नेतृत्व में भारतीय बॉक्सिंग विश्व नंबर छः पर पहुंची है! -बॉक्सर मनोज कुमार    

नेता प्रतिपक्ष हरियाणा सरकार Sh. Abhay Singh Chautala ने हरियाणा एवं देश मे खेलों के उत्थान के लिए सराहनीय प्रयास किए है हरियाणा में Boxing, Wrestling, Athletics, Kabaddi etc. के साथ- साथ VolleyBall के उत्थान के लिए सराहनीय प्रयास किए   HSIDC में  National एवं  International खिलाड़ियों से सुसज्जित टीम का गठन करवाया जिसने राष्ट्रीय स्तर पर हरियाणा की पहचान बनाई , 1988 (Hisar) 2001 (Chautala) में Senior National VolleyBall Championship का सफल आयोजन करवाया Boxing में उनके द्वारा किए गए प्रयासों को भूलाया नहीं जा सकता ।उन्होंने President HOA, Vice- President VFI, President IBF के रूप मे सराहनीय कार्य किए -Dr. Dalel Singh Chauhan , Arjuna Awardee (Volleyball)

श्री अभय सिंह चौटाला ने हरियाणा एवं देश मे खेलों के उत्थान के लिए सराहनीय प्रयास किए है एक खिलाडी ही खिलाडियों की समस्याओं को जान सकता है।पूर्व में भी अभय सिंह द्वारा खेलों के उथान के लिए उठाये गये क़दमों को नहीं भुलाया जा सकता ।गौर तलब है कि जब वो बेजिंग ओलिंपिक के चीफ थे तो भारत ने आज तक के सबसे ज्यादा पदक जीते थे।बॉक्सिंग की भारत में जागरूकता और अंतर्राष्टीय स्तर पर बुलंदियों पर पहुँचाने में उनका बहुत बड़ा हाथ है। वॉलीबॉल को हरियाणा में दुबारा जीवित करने में उनके योगदान को भी नहीं भुलाया जा सकता।- राज सिंह पूर्व् अंतर्राष्ट्रीय वॉलीबॉल खिलाड़ी कुरुक्षेत्र।

It was pleasure working with Shri Abhay Singh Chautala as president of Indian Boxing Federation from 2001to 2012 during this period I was Chief National Coach. We had very cordial relation. I really appreciate the support provided by him during this period.

He had regular interaction with coaches and decisions and views of coaches were honored and coaches had a say in the selection of the campers and even in the selection of the teams. This period had been memorable and we are thankful to him.-Shri G S Sandhu, Dronacharya Awardee and Former Chief National Boxing Coach

I HAD CHANCE TO WORK UNDER THE LEADERSHIP OF SHRI ABHAY SINGH CHAUTALA JI AS SECRETRAY OF HARYANA STATE ATHLETICS ASSOCIATION; HE HAS GREAT SENSE AND VISION FOR THE DEVELOPMENT AND PROMOTION OF SPORTS. HE ALSWAYS SUPPORTED FOR THE GOOD CUASE WITHOUT ANY DISCRIMINTION. Shri Chauatla ji always gave me freehand to work for the Haryana Athletics and because of his able leadership Haryana Athletics is at high peak.- Rajkumar Mittan, Secretary, Haryana State Athletics Association

संकलन लेखन -नरेंद्र सिंह मोर 

Copyright Haryana Olympic Association